आज़ादीयाँ

This poem is written as a tribute to a painting by a close friend. I happened to visit an exhibition of his work and was awestruck by this one (picture of the painting embedded in the post)

 

तुम कैद कर जो लोगे मेरे इन हाथों को ,
पर कैसे बाँध पाओगे समंदर ख्यालों का ।
जकड़ लोगे मुझे चंद बेड़ियों में तो क्या,
बाँधोगे कैसे जो मेरे जीने का है जज्बा ।

पिंजरा तो बना लोगे मज़बूत,
पर क्या करोगे इन फौलादी इरादो का ।
तोड़ न भी पाऊ ये ज़ंजीरे तो गम नहीं ,
है फिर भी बुलंद ये जो है होसला ।

तुम नाम देते हो हमे कैदी का,
मै स्वतंत्र खुद को मानता हुँ ।
तुम जो भी नाम दे दो नये मुझे ,
मै पहचान अपनी जानता हूं ।

तुम चढ़ा दो आँखों पे कोई पर्दा ,
मैं उनमे सपने बुन लूंगा ।
बंद आंखे हुई तो क्या,
जब तक है साँस मैं हूँ ज़िंदा ।

534264_10201468812816494_807368331_n

 

मैं नियमों  की इस कैद  से दूर ,
खुली हवा में उड़ना चाहता हू ।
ऊँच नीच की दीवारों को फाँद कर ,
अपने मायने बनाना चाहता हूँ ।

तुम कैद कर जो लोगे मेरे इन हाथों को ,
पर कैसे बाँध पाओगे समंदर ख्यालों का ।
जकड़ लोगे मुझे चंद बेड़ियों में तो क्या,
बाँधोगे कैसे जो मेरे जीने का है जज्बा ।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Author of "My Beloved's MBA Plans", "Because Life Is A Gift" & "Corporate Avatars"

%d bloggers like this: